इटावा लाइव के समस्त पाठकों का इटावा लाइव परिवार हार्दिक स्वागत करता है।

एकलव्य स्टडी सर्किल ,मुख्य शाखा, प्रथम तल सियाराम मार्केट,भर्थना चौराहा ,इटावा , संपर्क सूत्र -9456629911,8449200060  | रिनेसाँ एकेडेमी,विकास कॉलोनी भाग-2 , कानपुर रोड, पक्का बाग, इटावा फोन नंबर -9456800140  | गरुकुल कंप्यूटर एजुकेशन एंड मैनेजमेंट ,इंफ्रोन्ट ऑफ़ रामलीला रोड ,गोविन्द नगर इटावा डायरेक्टर मोहम्मद शहीद अख्तर ,संपर्क सूत्र-9412190565  | रॉयल ऑक्सफ़ोर्ड इंटरनेशनल सीनियर सेकेण्डरी स्कूल एडमिशन ओपन क्लास पी.जी. से ट्वेल्थ पता रामलीला रोड इटावा ,संपर्क सूत्र-9927176666,9917166666  | सेंट मारिया स्कूल ,एडमिशन ओपन ,प्ले से इलेवेंथ ,पता बम्ब रोड ,पास लोहिया गैस गोदाम नयी मंडी इटावा,संपर्क सूत्र -८७५५५१९२१६,८७५५५१९२०४.  | ए-वन कम्पटीशन जोन फ्रेंड्स कॉलोनी भरथना चौराहा इटावा डायरेक्टर देवेंद्र सूर्यवंशी I  | विज्ञापन व समाचार प्रकाशन हेतु सम्पर्क करें- आशुतोष दुबे (संपादक) मो0- 9411871956 | e-mail :-newsashutosh10@gmail.com   | भरथना तहसील क्षेत्र अन्तर्गत समाचार प्रकाशन हेतु सम्पर्क करें- तनुज श्रीवास्तव (तहसील प्रतिनिधि) मो0- 9720063658  | 
स्‍पेशल रिपोर्ट

धरती पर पडे मिले थे छोला मन्दिर के हनुमान जी महाराज

Tanuj Shrivastava

भरथना 26 सितम्बर- ‘‘छोला मन्दिर‘‘ के नाम से जनपद में ख्याति प्राप्त देव स्थान कस्बा भरथना से करीब 3 किमी0 दूर राष्ट्रीय राजमार्ग 91ए विधूना रोड पर स्थित है। माँ दुर्गा के आकर्षित सजे दरबार के साथ विभिन्न देव शक्तियों के विराजमान होने से उक्त स्थान आसपास समेत दूरदराज से आये श्रद्धालु भक्तजनों की आस्था का प्रमुख केन्द्र बना हुआ है। अधिकांशतः पूरे वर्ष किसी न किसी धार्मिक अनुष्ठान के आयोजनों के चलते मन्दिर प्रांगण सदैव महोत्सव के रूप में अपनी अनुपम छटा बिखेरता रहता है।
 
इतिहास- मन्दिर संस्थापक बदन सिंह चैहान को बीते करीब 50 वर्ष पूर्व बाल्यकाल के दौरान निद्रा के समय हनुमान जी ने स्वप्न में दर्शन दिये और कहा कि हम शहर से दूर सडक किनारे स्थित खेत में एक कुँआ के पास पडे हैं। मेरी खोज करके भक्तों के कल्याण के लिए मेरी स्थापना करो। तब संस्थापक श्री चैहान ने 2-3 दिन की कडी मशक्कत के बाद कस्बा के समीप स्थित ग्राम छोला के एक खेत में हनुमान जी की जमीन के अन्दर कुछ दबी प्रतिमा को ढंूढ निकाला। विशेषज्ञों ने बताया कि हनुमान जी की मूर्ति करीब 300 वर्ष पुरानी है। जिसका शक्तिपीठ श्री बालरूप हनुमान जी महाराज हनुमान गढी के नाम से नामकरण कर विधिविधान से पूजन अर्चन शुरू कर दिया गया। तदुपरान्त श्री चैहान ने उक्त खेत को क्रय करके मन्दिर स्वरूप दरबार बनवाया। हनुमान जी की चमत्कारी शक्ति व धीरे-धीरे भक्तों की आस्था का प्रतीक बने छोला मन्दिर ने ऐसा रूप धारण किया कि जनपद के प्राचीन शक्तिपीठ व आस्थावान देव स्थानों की श्रृंखला में आज जाना जाता है। जहाँ बुढवा मंगल के पावन पर्व पर हर वर्ष की भाँति इस वर्ष भी 36वाँ भव्य व ऐतिहासिक मंगल महोत्सव मनाया गया था। सर्वप्रथम हनुमान जी का भव्य दरबार स्थापित होने के बाद भक्तजनों की श्रृद्धा व सहयोग से क्रमशः कैला देवी, दुर्गा मन्दिर, शंकर जी, साँई बाबा मन्दिर, श्रीराम दरबार, राधाकृष्ण मन्दिर सहित अनेक देवी-देवताओं की प्रतिमा के साथ भव्य यज्ञशाला स्थापित है।
 
मन्दिर संस्थापक बदन सिंह चैहान ने बताया कि उन्होंने अपने आराध्य हनुमान जी के आदेश का पालन किया है। हनुमान जी की शक्ति व भक्तों की आस्था का ही परिणाम है, जो यह देव स्थान धार्मिक अनुष्ठानों व पूजा का केन्द्र बना हुआ है। श्री चैहान ने बताया कि विभिन्न देव प्रतिमायें स्थापित होने से पूरे वर्ष किसी न किसी धार्मिक अनुष्ठान का आयोजन चलता रहता है। नवरात्रि में माँ दुर्गा का श्रृंगार व दरबार की आकर्षक साज सज्जा, जवारे की स्थापना तथा नियमित दोनों समय पूजन अर्चन के साथ आरती सम्पन्न होती है। जिसमें सैकडों की संख्या में महिला-पुरूष भक्तजन सहभागिता करते हैं। कन्या पूजन के साथ रामनवमीं के दिन कन्या भोज का भव्य आयोजन किया जाता है।
 

Report :- Tanuj Shrivastava
Posted Date :- 26-09-2017
स्‍पेशल रिपोर्ट
Video Gallery
Photo Gallery

Portal Owned, Maintained and Updated by : Etawah Live Team || Designed, Developed and Hosted by : http://portals.news/