इटावा लाइव के समस्त पाठकों का इटावा लाइव परिवार हार्दिक स्वागत करता है।

एकलव्य स्टडी सर्किल ,मुख्य शाखा, प्रथम तल सियाराम मार्केट,भर्थना चौराहा ,इटावा , संपर्क सूत्र -9456629911,8449200060  | रिनेसाँ एकेडेमी,विकास कॉलोनी भाग-2 , कानपुर रोड, पक्का बाग, इटावा फोन नंबर -9456800140  | गरुकुल कंप्यूटर एजुकेशन एंड मैनेजमेंट ,इंफ्रोन्ट ऑफ़ रामलीला रोड ,गोविन्द नगर इटावा डायरेक्टर मोहम्मद शहीद अख्तर ,संपर्क सूत्र-9412190565  | रॉयल ऑक्सफ़ोर्ड इंटरनेशनल सीनियर सेकेण्डरी स्कूल एडमिशन ओपन क्लास पी.जी. से ट्वेल्थ पता रामलीला रोड इटावा ,संपर्क सूत्र-9927176666,9917166666  | सेंट मारिया स्कूल ,एडमिशन ओपन ,प्ले से इलेवेंथ ,पता बम्ब रोड ,पास लोहिया गैस गोदाम नयी मंडी इटावा,संपर्क सूत्र -८७५५५१९२१६,८७५५५१९२०४.  | ए-वन कम्पटीशन जोन फ्रेंड्स कॉलोनी भरथना चौराहा इटावा डायरेक्टर देवेंद्र सूर्यवंशी I  | विज्ञापन व समाचार प्रकाशन हेतु सम्पर्क करें- आशुतोष दुबे (संपादक) मो0- 9411871956 | e-mail :-newsashutosh10@gmail.com   | भरथना तहसील क्षेत्र अन्तर्गत समाचार प्रकाशन हेतु सम्पर्क करें- तनुज श्रीवास्तव (तहसील प्रतिनिधि) मो0- 9720063658  | 
आपकी बात

शिक्षक समाज ‘‘जुगाड़ू-वृत्ति’’

Sughar Singh Saifai

इटावा। शिक्ष् धातु के मूलतत्व से विखरता तथाकथित शिक्षक समाज ‘‘जुगाड़ू-वृत्ति’’ के वशिभूत है। ऐसे जुगाड़ू शिक्षक भला भावी पीढ़ी को क्या ‘जुगाड़ू-संस्कार देंगे? बेसिक षिक्षा विभाग ही नहीं, माध्यमिक, उच्च, चिकित्सा एवं प्रावधिक सहित समूचे शिक्षा जगत में चुगाड़ का बोलवाला है, शिक्षक-धर्म के नैतिक मूल्य लेशमात्र में नहीं दिख रहे। बेसिक षिक्षा: उत्तरप्रदेष में शैक्षणिक वातावरण बनाये रखने के शिक्षामित्र की भर्ती हुई थी, जिन्हें सहायक अध्यापक बना दिया गया। साथ ही टीईटी की अनिवार्यता के साथ काउंसिलिंग के जरिये नियुक्तियां हुई, इस समूची कवायद में जुगाड़ीवृत्ति का बोल वाला रहा। उदाहरणतः इटावा जनपद के उच्चप्राथमिक विद्यालयों में विज्ञान व गणित के 182-182 शिक्षक नियुक्त हुए, साथ ही विज्ञान एवं गणित के शिक्षकों की प्रतीक्षा सूची भी जारी हुई। एक के बाद एक करके सात चरणों में काउंसिलिंग हुई। यहां तमाम अभ्यर्थियों ने स्नातक-शिक्षा परीक्षण एवं टीईटी माक्र्सशीटों से छेड़छाड़ की और नियुक्ति की महत्वाकांक्षा सिद्ध कर ली। असफल होने वाले अभ्यर्थी प्रिया पोरवाल, विजया गुप्त, अर्चना पोरवाल उत्तम कुमार बगैरह ने शिकायत की कि चयनित 161 शिक्षकों ने टीईटी के फर्जी अंकपत्रों एवं कूट रचित माक्र्सशीटों का प्रयोग किया। इस आरोप के आधार पर अभ्यर्थियों द्वारा लगाये गये टीईटी अंकपत्र के रोलनंबर की आॅलाइन पड़ताल करने से पता लगा ‘‘बहुतेरे अभ्यर्थियों ने जुगाड़ से फेल होने के बावजूद फर्जी अंकपत्र लगाया जिसमें वह न केवल पास दिखाया गया है जिसमें प्राप्तांक भी दोगुने दर्ज हैं। तमाम ने जिस रोलनंबर की टीईटी माक्र्सशीट लगाई है, वो आॅनलाइन पड़ताल में किसी और के नाम की है।’’ ऐसा ही ‘हाई मेरिट’ कायम करने की जुगाड़ में माध्यमिक व स्नातक माक्र्सशीटों में जुगाड़ी कूटरचना की गई होगी। बहरहाल अभ्यथियों ने ‘‘जुगाड़ू-वृत्ति’’ का खुलकर इस्तेमाल किया। काउंसिलिंग पर सवाल: क्रमशः सात चरण में हुई काउंसिलिंग प्रक्रिया ही सवाल के घेरे में दिख रही है। काउंसिलिंग का तात्पर्य मात्र संलग्न प्रपत्रों की मूलप्रतियां देखना है, तो ठीक है, किन्तु तेजी से हो रही ई-गवर्नेस यानी डिजिटिल प्रक्रिया का इस्तेमाल नहीं किया गया। जब टीईटी के अंकपत्र आॅनलाइन देखें जा सकते हैं, लगभग सभी बोर्ड और विश्वविद्यालय के परीक्षा परिणाम भी सम्बंधित वेबसाइटों पर हैं, तो फिर काउंसिलिंग में अभ्यर्थियों के प्रपत्रों का सत्यापन क्यों नहीं किया गया? टीईटी रिजल्ट की 4 वर्षाें से अपडेटिंग क्यों नहीं? टीईटी रिजल्ट मात्र 2011 का ही आॅनलाइन है, इसके बाद 2012, 2013, 2014 2015 का रिजल्ट आॅनलाइन अपडेट नहीं है, आखिर क्यों? सवाल उठता है कि क्या ‘‘जुगाड़ू-वृत्ति’’ का लिंक हाईलेवल से है। फिर भी कम से कम आवेदक द्वारा लगाये गये दस्तावेजों की सत्यता को जानने के लिए बोर्ड, विश्वविद्यालय एवं टीईटी प्रबंधन तंत्र से नहीं करने चाहिए? वास्तव यदि सत्यनिष्ठा से मौजूदा तैनात अथवा सेवानिवृत्त हो चुके बेसिक, माध्यमिक, उच्च, चिकित्सा एवं प्रावधिक शिक्षकों के दस्तावेजों का सत्यापन हो जाये तो ‘‘जुगाड़ू-संस्कार’’ की जड़ों तक पहुचा जा सकता है, साथ ही नवनियुक्तियों में पारदर्शिता रखनी परम आवश्यक है।

Report :- Sughar Singh Saifai
Posted Date :- 02-10-2015
आपकी बात
Video Gallery
Photo Gallery

Portal Owned, Maintained and Updated by : Etawah Live Team || Designed, Developed and Hosted by : http://portals.news/