इटावा लाइव के समस्त पाठकों का इटावा लाइव परिवार हार्दिक स्वागत करता है।

एकलव्य स्टडी सर्किल ,मुख्य शाखा, प्रथम तल सियाराम मार्केट,भर्थना चौराहा ,इटावा , संपर्क सूत्र -9456629911,8449200060  | रिनेसाँ एकेडेमी,विकास कॉलोनी भाग-2 , कानपुर रोड, पक्का बाग, इटावा फोन नंबर -9456800140  | गरुकुल कंप्यूटर एजुकेशन एंड मैनेजमेंट ,इंफ्रोन्ट ऑफ़ रामलीला रोड ,गोविन्द नगर इटावा डायरेक्टर मोहम्मद शहीद अख्तर ,संपर्क सूत्र-9412190565  | रॉयल ऑक्सफ़ोर्ड इंटरनेशनल सीनियर सेकेण्डरी स्कूल एडमिशन ओपन क्लास पी.जी. से ट्वेल्थ पता रामलीला रोड इटावा ,संपर्क सूत्र-9927176666,9917166666  | सेंट मारिया स्कूल ,एडमिशन ओपन ,प्ले से इलेवेंथ ,पता बम्ब रोड ,पास लोहिया गैस गोदाम नयी मंडी इटावा,संपर्क सूत्र -८७५५५१९२१६,८७५५५१९२०४.  | ए-वन कम्पटीशन जोन फ्रेंड्स कॉलोनी भरथना चौराहा इटावा डायरेक्टर देवेंद्र सूर्यवंशी I  | विज्ञापन व समाचार प्रकाशन हेतु सम्पर्क करें- आशुतोष दुबे (संपादक) मो0- 9411871956 | e-mail :-newsashutosh10@gmail.com   | भरथना तहसील क्षेत्र अन्तर्गत समाचार प्रकाशन हेतु सम्पर्क करें- तनुज श्रीवास्तव (तहसील प्रतिनिधि) मो0- 9720063658  | 
खबरें

निर्जला व्रत रखकर सुहागिनों ने की पतियों की लम्बी आयु की कामना

Ashutosh Dubey

इटावा, 8 अक्टूबर। करवा चौथ का वृत रखकर सुहागिनों ने चन्द्रदेव की पूजा अर्चना कर पतियों की दीर्घायु की कामना की। समूची धरती को शीतल प्रकाश देने वाले चन्द्रदेव की पूजा कर सुहागिनों अपने पति के स्वस्थ्य एवं दीर्घायु के लिए बिना अन्न जल ग्रहण कर कठोर वृत रखती हुई अपने सुहाग की रक्षा सुरक्षा की कामना की। 
स्मरण रहे कि कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चौथ को करवा चौथ कहा जाता है। बताते है  िकइस दिन सुहागिन महिलाये अपने पति परमेश्वर की दीर्घायु एवं उनके स्वस्थ्य जीवन की शुभकामना हेतु कठोर उउपवास रखती है। इस दिन सुहागिन बिना अन्न जल ग्रहण किये चन्द्रमा के निकलने पर उन्हें जल अर्घ देकर ही पूजा करके उपवास सम्पन्न करती है।
आज इस आधुनिक दौर में इस पूजा अर्चना के समय को एक विशेष त्यौहार की तरह मनाया जाता है। इसमें नई नवेली बहुये ही अथवा बुजुर्ग सुहागिन सभी सज सवंरकर इस पर्व को मनाती है। आज प्रात: से ही इस त्यौहार के लिए सुहागिने सज सबंर कर तैयार हुई  और फिर चन्द्रदेव के निकलने का इतंजार शुरू हुआ। विभिन्न प्रकार के आभूषण एएव ंचमक दमक वाले परिधानों में लिपटी महिलाये शाम 7 बजे से ही चन्द्रदर्शन के लिए छतों अथवा खुले स्थानों पर डेरा जमाये रहीं।
इस पर्व पर अपने पति के लिए कठोर उपवास रखने को लेकर पति परमेश्वर भी अपनी पत्नियों को खुश करने के लिए विशेष तोफा प्रदान करते है। आज के इस पर्व ने शादीशुदा जोडो के लिए विशेष महत्व प्रदान किया  है। जैसे ही चन्द्रदेव के प्रकट होने से पूर्व लालिमा दिखी की महिलाये जल धार डालने लगी उनके उत्साह को बढाने के लिए बच्चे भी पीछे नही रहे वह तालियां बजाकर एवं पटाखे चलाकर चन्द्रमा के निकलने का संकेत देते नजर आये। आज वैसे विशेष प्रकार का पकवान तथा कच्चे भोजन की व्यवस्था होती है। चन्द्रदर्शन के उपरान्त सुहागिनों को उनके मौजूद पति निवाला खिलाकर अथवा जल पिलाकर उपवास पूर्ण कराते है। इस पर्व का महत्व वैज्ञानिक आध्यात्मिक एवं सामाजिक है जिससे पति-पत्नि के रिश्तों में प्रगडता आना स्वाभाविक है।
 

Report :- Ashutosh Dubey
Posted Date :- 08-10-2017
खबरें
Video Gallery
Photo Gallery

Portal Owned, Maintained and Updated by : Etawah Live Team || Designed, Developed and Hosted by : http://portals.news/