इटावा लाइव के समस्त पाठकों का इटावा लाइव परिवार हार्दिक स्वागत करता है।

एकलव्य स्टडी सर्किल ,मुख्य शाखा, प्रथम तल सियाराम मार्केट,भर्थना चौराहा ,इटावा , संपर्क सूत्र -9456629911,8449200060  | रिनेसाँ एकेडेमी,विकास कॉलोनी भाग-2 , कानपुर रोड, पक्का बाग, इटावा फोन नंबर -9456800140  | गरुकुल कंप्यूटर एजुकेशन एंड मैनेजमेंट ,इंफ्रोन्ट ऑफ़ रामलीला रोड ,गोविन्द नगर इटावा डायरेक्टर मोहम्मद शहीद अख्तर ,संपर्क सूत्र-9412190565  | रॉयल ऑक्सफ़ोर्ड इंटरनेशनल सीनियर सेकेण्डरी स्कूल एडमिशन ओपन क्लास पी.जी. से ट्वेल्थ पता रामलीला रोड इटावा ,संपर्क सूत्र-9927176666,9917166666  | सेंट मारिया स्कूल ,एडमिशन ओपन ,प्ले से इलेवेंथ ,पता बम्ब रोड ,पास लोहिया गैस गोदाम नयी मंडी इटावा,संपर्क सूत्र -८७५५५१९२१६,८७५५५१९२०४.  | ए-वन कम्पटीशन जोन फ्रेंड्स कॉलोनी भरथना चौराहा इटावा डायरेक्टर देवेंद्र सूर्यवंशी I  | विज्ञापन व समाचार प्रकाशन हेतु सम्पर्क करें- आशुतोष दुबे (संपादक) मो0- 9411871956 | e-mail :-newsashutosh10@gmail.com   | भरथना तहसील क्षेत्र अन्तर्गत समाचार प्रकाशन हेतु सम्पर्क करें- तनुज श्रीवास्तव (तहसील प्रतिनिधि) मो0- 9720063658  | 
खबरें

जगह-जगह टेसू-झेंझी के विवाह की रही धूम

Ashutosh Dubey

फोटो-8
कैप्शन-टेसू-झेंझी विवाह करते महिला व पुरूष
इटावा 5 अक्टूबर। आज क्वांर मास की पूर्णिमा पर जगह-जगह टेसू झेंझी के विवाह की धूम रही। छोटे-छोटे बच्चे बच्चियों में उत्साह से टेसू झंझी विवाह मेुं मग्न रहे तो इसमें बडे-बूढे और जवानों ने हिस्सा लिया। टेसू विवाह के उपरान्त् लहालग की शुरूआत हो गई। इस कार्यक्रम का हिन्दू समाज में पौराणिक महत्व माना जाता है। 
ज्ञात हो कि टेसू-झेझी का विवाह हिन्दू समाज में अलग महत्व रखता है। इस संदर्भ में कहा जाता है कि भीम पुत्र घटोत्सकक्ष के पुत्र टेसू का विवाह झेंझी से वरण रोकने के लिए शादी के प्रयास में शादी के फेरे पूर्ण होने से पहले ही टेसू के वध की प्रक्रिया है। इससे आगे होने वाले टेसू के वध की प्रक्रिया है। इससे आगे होने वाले शादी विवाह में बाधायें नहीं पडती इसी लिए टेसू झेंझी के विवाह उपरान्त ही शहालग का श्री गणेश होता है। इस परम्परा को जीवित रखने के लिए छोटे-छोटे बच्चे बच्चियॉं टेसू व झेंझी बनाकर नौमी से घर घर जाकर मनोरंजन करते हैं। इन्हें इस मनोरंजन और विवाह हेतु दान मिलता है। जिसमें यह लोग आज पूर्णिमा के दिन जिसे टेसू पूनो का नाम दिया गया पूर्ण उल्लास के सााि विवाह व्यवस्था पूर्ण होती है। इस आयोजन में आज भी परम्परागत गीत टेसू अगर करे टेसू झगर करे टेसू लै के ही टरै, एक चना में 16 रोटी आप खाये बच्चों को खिलायै, रेल चली भई रेल चली, जैसे मनोहारी गीतों के माध्यम से बचें का मनमोहित है। तो लडकियॉं झेंझी गीत गाकर झेंझी को नचाकर आकर्षण पैदा करती हैं। आज के दिन टेसू की बारात जगह जगह देखने को मिली बच्चे बर्तन बजाकर तथा ढोल नगाढों की धुन के सााि बारात लेकर झेझी के द्वार पर पहुॅचते हैं। विवाह के बाद खीलें लाई, रेवडी व रेवडी का प्रसाद वितरित किया गया। यह भी प्रचलन में है कि दूसरे दिन टेसू झेंझी को जल प्रवाह किया जाता हैआज भी इस परम्परा को धूमधाम से मनाया गया। 
 

Report :- Ashutosh Dubey
Posted Date :- 06-10-2017
खबरें
Video Gallery
Photo Gallery

Portal Owned, Maintained and Updated by : Etawah Live Team || Designed, Developed and Hosted by : http://portals.news/