इटावा लाइव के समस्त पाठकों का इटावा लाइव परिवार हार्दिक स्वागत करता है।

एकलव्य स्टडी सर्किल ,मुख्य शाखा, प्रथम तल सियाराम मार्केट,भर्थना चौराहा ,इटावा , संपर्क सूत्र -9456629911,8449200060  | रिनेसाँ एकेडेमी,विकास कॉलोनी भाग-2 , कानपुर रोड, पक्का बाग, इटावा फोन नंबर -9456800140  | गरुकुल कंप्यूटर एजुकेशन एंड मैनेजमेंट ,इंफ्रोन्ट ऑफ़ रामलीला रोड ,गोविन्द नगर इटावा डायरेक्टर मोहम्मद शहीद अख्तर ,संपर्क सूत्र-9412190565  | रॉयल ऑक्सफ़ोर्ड इंटरनेशनल सीनियर सेकेण्डरी स्कूल एडमिशन ओपन क्लास पी.जी. से ट्वेल्थ पता रामलीला रोड इटावा ,संपर्क सूत्र-9927176666,9917166666  | सेंट मारिया स्कूल ,एडमिशन ओपन ,प्ले से इलेवेंथ ,पता बम्ब रोड ,पास लोहिया गैस गोदाम नयी मंडी इटावा,संपर्क सूत्र -८७५५५१९२१६,८७५५५१९२०४.  | ए-वन कम्पटीशन जोन फ्रेंड्स कॉलोनी भरथना चौराहा इटावा डायरेक्टर देवेंद्र सूर्यवंशी I  | विज्ञापन व समाचार प्रकाशन हेतु सम्पर्क करें- आशुतोष दुबे (संपादक) मो0- 9411871956 | e-mail :-newsashutosh10@gmail.com   | भरथना तहसील क्षेत्र अन्तर्गत समाचार प्रकाशन हेतु सम्पर्क करें- तनुज श्रीवास्तव (तहसील प्रतिनिधि) मो0- 9720063658  | 
देश विदेश

इश्क़ तू आबाद कर या इश्क़ तू बर्बाद कर : प्रवीण भरद्वाज

Ajay Kumar

मुम्बई- म्यूजिक रिलीज के बाद से ही फिल्म ये है लॉलीपॉप के गीत लोगों की जुबान पर आ गए हैं। फिल्म के दो गानों को इन्टरनेट पर खूब सुना और देखा जा रहा है। इसमें इश्क़ तू आबाद कर या इश्क़ तू बर्बाद कर और मस्ती इन दी मॉल को सबसे ज्यादा लोकप्रियता मिल रही है। पिछले दिनों इस फिल्म का सॉन्ग ज़ी म्यूजिक ने रिलीज किया है और 11 नवंबर को यह फिल्म रिलीज हो रही है। फिल्म की सबसे अच्छी बात यह है कि इसमें कॉमेडी के साथ-साथ मेलोड़ी भी है। फिल्म के निर्माता हर्षल बधने हैं। मनोज शर्मा ने फिल्म का निर्देशन किया है और अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त म्यूजिक डायरेक्टर प्रवीण भारद्वाज इसके गीतकार व संगीतकार हैं। फिल्म के गाने आज के गानों से काफी अलग हैं। इसके बारे में प्रवीण भारद्वाज बताते हैं कि फिल्म के गीतों में मैंने सुर, सरगम और ताल का समन्वय बनाने की कोशिश की है साथ ही गीतों के काव्यात्मक पक्ष पर विशेष ध्यान दिया है। मुझे लगता है गानों के लोकप्रियता की वजह यही है। प्रवीण बताते हैं कि जब गीतकार और संगीतकार को काम करने का पूरा स्पेस मिलता है तो परिणाम हमेशा अच्छा ही होता है। आज एक ही फिल्म में कई गीतकार और संगीतकार जुड़े होते हैं। उनके हिस्से में ज्यादा से ज्यादा एक या आधा गीत ही आते हैं ऐसे में उन्हें न तो अपनी रचनात्मकता दिखाने का मौका मिलता है न ही लोगों को अच्छा गाना मिल पाता है।

बता दें कि पिछले दिनों उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा दिये जाने वाले यश भारती सम्मान के लिए प्रवीण भारद्वाज के नाम की भी काफी चर्चा थी। पर जब पुरस्कारों घोषणा हुई तो उनका नाम नहीं था। इस संदर्भ में प्रवीण का कहना है कि उन्हें भी अबतक इसकी वजह नहीं पता चली कि क्यों उन्हें यह पुरस्कार नहीं मिला। उनका मानना है कि वजह कोई भी हो पर यह पुरस्कार बेहद खास है। यह पुरस्कार उन सैकड़ों साहित्यकारों और कलाकारों के लिए वरदान सरिख हो उम्र ढलने के बाद गुमनामी के अंधेरे में खो जाते हैं। ये बहुत अच्छी बात है कि इस बहाने सरकार उनका सहारा बन रही है।

 

                 

Report :- Ajay Kumar
Posted Date :- 09-11-2016
देश विदेश
Video Gallery
Photo Gallery

Portal Owned, Maintained and Updated by : Etawah Live Team || Designed, Developed and Hosted by : http://portals.news/