स्वच्छ सर्वेक्षण अभियान एक जन आन्दोलन, इसे सफल बनाने में युवाओ की जिम्मेदारी अधिक – मुख्य विकास अधिकारी

इटावा 24 अगस्त 18- स्वच्छ सर्वेक्षण अभियान 2018 को एक जन आन्दोलन के रूप में चलाकर गांव में समूह में बैठकर ग्रामवासियो को खुले में शौच करने से होने वाले दुष्परिणामेां, बीमारियो मे बारे में नुक्कड़ नाटक,सभाओ,पोस्टर आदि के माध्यम से जागरूक कर उनके अन्दर परिवर्तन लाना है। यह कार्य युवा ही कर सकते है, युवाओ में वह शक्ति है जो लोगो में खुले में शौंच जाने की धारणा को बदल सकते हेै। ग्रामवासियो को स्वच्छ शैाचालय प्रयोग करने,घर को साफ सुथरा रखने , स्वच्छता अपनाने ,खुले में शौंच करने से होने वाली बीमारियो, बहू बेटियो को खुले में शैच जाने के होने वाली शर्मिन्दगी के निजात दिलाने बच्चो को प्रतिदिन विद्यालय भेजने के लिऐ जन समुदाय के हृदय के अन्दर परिवर्तन लाना है यह परिवर्तन उनके अन्दर प्यार ,मोहब्बत से ही पैदा किया जा सकता है।
उक्त उद्गार मुख्य विकास अधिकारी पी0के0श्रीवास्तव ने. विकास भवन के नवीन सभागार में स्वच्छता प्रहरियो को दो पालियो में आयेाजित प्रशिक्षण देते हुए व्यक्त किये । उन्होने कहा कि स्वच्छता, ओडीएफ,शिक्षा, आदि के संबंध में ग्रामवासियो को जागरूक करने हेतु भेजा जा रहा है , गांव में पहुंचने के बादं वहां के प्रमुख लोगो से सम्पर्क कर गंाव का भ्रमण कर ले उसके बाद सार्वजनिक स्थन का चयन कर नुक्कड़ नाटक, सभायें आदि माध्यमो से उन्हें शौचालय का प्रयोग करने,स्वच्छता अपनाने, प्रतिदिन बच्चो को विद्यालय भेजने के लिए उन्ही की भाषा में जानकारी दी जायें।
मुख्य विकास अधिकारी ने स्वच्छता प्रहरियों से कहा कि ग्रामवासियो के व्यवहार में परिवर्तन लाने के आप को गांव में भेजा जा रहा है उन्हें बताया जाये कि खाना खाने से पहले, शौंच जाने के बाद साबुन से हाथ अवश्य धोंये ,भोजन न रखे खुला रहने से मक्खियां बैठती है और अपने टांगो में गन्दगी (मानव मल) लेकर आती है वह गन्दगी आपके भेाजन में बैठकर छोड़ जाती है। इस प्रकार हर मनुष्य किसी न किसी रूप में अनजाने में प्रतिदिन 14 मिलीग्राम मानव मल खा रहे है। इस प्रकार से नवयुवक ग्रामीणो में अपनी नई सोंच,नई ऊर्जा के साथ लोगो में बाहर शौंच जाने की परम्परा को बदलने में काफी सहायक हो सकते है। उन्होने कहा कि जब गांव में कार्य करेगें तो नये अनुभव भी मिलेगें। उन्होने कहा कि ग्रामवासियो द्वारा कुछ समस्यायें बतायी जायेगी उन्हें नोट करते जाये और अधिकारियेा के संज्ञान में लाये।
उन्होने कहा कि स्वच्छता प्रहरी की एक टीम 10 छात्र/छात्रायें को शामिल किये गये हैे ,टीमो को जो गांव दिये जायेगें उसी गांव में 04 दिन निवास करना होगा उनके रहने,खाने एवं पहुंचाने , लाने की व्यवस्था प्रशासन द्वारा की जायेगी। टीम में लड़कियो को लगाया गया क्योंकि लड़किया अच्छी तरह से महिलाओं को जागरूक करने में सहायक सिद्ध हो सकती हैेे। उन्हानेे कहा कि ग्रामवासियो को स्वच्छता अपनाने के प्रति जागरूक करने में अच्छा कार्य करने वाली प्रथम स्थान पर आने वाली टीम को रू. 51 हजार रू. का प्रथम पुरूस्कार एवं द्वितीय स्थान पर आने वाली टीम को 21 हजार रू. का द्वितीय पुरूस्कार दिया जायेगा इसके साथ ही प्रमाण पत्र उपलब्ध कराया जायेगा,जो भविष्य में आपके काम आयेगा।उन्होने कहा कि इस कार्य में आशा,आंगनवाड़ी कार्यकत्री सहयोग करेगी। एक डाक्टर की टीम भी लगायी जा रही है जो विद्यालय में बच्चो के स्वास्थ्य का परीक्षण स्वच्छता प्रहरी टीम के नेतृत्व में करेगी। टीम की गांव में सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस द्वारा भी भ्रमण किया जायेगा इस अवसर पर मास्टर ट्ेनर राम जनम सिंह, मीनाक्षी द्वारा भी बडी, गहनतापूर्वक प्रशिक्षण दिया गया। इस अवसर पर प्रधानाचार्य राजकीय इण्टर कालेज डा. मुकेश कुमार, जिला पंचायतराज अधिकारी आर.बी.ंिसह,सहायक जिला पंचायतराज अधिकारी रोहित कुमार आदि उपस्थित रहे।

बचपन में कछुआ और खरगोश की कहानी पढी थी आज तक समझ नहीं आया की कछुए में इतना कॉन्फिडेंस आया कहा से, खैर मेरी ईमेल etawah.news@gmail.com पर आप ख़बरें व सुझाव भेज सकते अगर जरुरी लगे तो 9412182324, 7017070200 पर कॉल भी कर सकते है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *